004 – Shakuntala and Dushyant

आज हम दुष्यंत और शकुंतला के बारे में जानेंगे। हम देखेंगे विश्वामित्र की तपस्या ने कैसे इंद्र को चिंतित कर दिया। अंत में हम जानेंगे की राजा भरत का जन्म कैसे हुआ।

Advertisements

003 – Water Is Life

हम बात करेंगे की महाभारत शुरू कैसे हुई। हम जानेंगे की कौन थे राजा वसु और कैसे एक मछली ने राजा वसु की संतानों को जन्म दिया। इसके साथ ही हम सुनेंगे की ऋषि व्यास कैसे पैदा हुए।

002 – Origins

आज हम महाभारत के शुरू होने के बारे में बात करेंगे। हम जानेंगे की यह कहानी शुरू कैसे होती है और कैसे कही गयी है और किसके द्वारा कही गयी है। हम यह भी जानेंगे की सर्प यज्ञ क्या था और इस यज्ञ में सभी साँपों को क्यों मारा जा रहा था।

आखिकार हम ये भी बात करेंगे की यह यज्ञ पूरा हुआ या नहीं।

जाने से पहले, मैं महाभारत पर पॉडकास्ट के अपने अद्भुत काम के लिए लॉरेंस मांजो का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। इस पॉडकास्ट में मैं उनके प्रयासों से बड़ी प्रेरणा लेता हूँ और इसके लिए उनका धन्यवाद करता हूँ।

001 – The beginning

मैंने कई पॉडकास्ट देखे महाभारत के, पर सभी इंग्लिश में थे। मुझे लगा की इतना बड़ा महाकाव्य, जिसपर सभी को गर्व होना चाहिए, बहुत से लोगों की पहुँच से दूर है क्यूंकि इंग्लिश में उच्चारण अलग होता है। तो मैंने ये हिंदी पॉडकास्ट शुरू करने पर विचार किया।

इस श्रृंखला में, मैं प्राचीन भारतीय महाकाव्य महाभारत को एक संक्षिप्त ऑडियो रूप में प्रस्तुत करूंगा। मेरा मुख्य उद्देस्य चचेरेभाइयों के बीच युद्ध की अद्भुत कहानी को पढ़ना और उसमें भगवान कृष्णा की भूमिका पर विचार करना है। मैं सीधे अनुवाद नहीं पढ़ूंगा, इसके बजाय मैं इसे अपने शब्दों में पढूंगा।इसके साथ में मैं इसमें अपने प्रश्न और विचार सम्मिलित भी करूँगा। मैं कुछ हद तक अनुवाद इस्तेमाल करूँगा और कई बार सीधे मौलिक रूप से आपको अवगत करने के लिए महाभारत से यात्रार्त पढूंगा। कहानी से शुरू होने से पहले, मैं सबसे पहले संक्षेप में बताऊंगा कि कहानी क्या है और यह भारतीय इतिहास संस्कृति और धर्म में कैसे फिट बैठती है।

महाभारत काफी पुराना है और इसके कई भाग तो 3000 साल पुराने हैं।प्राचीन काल के सभी बड़े महाकाव्यों में महाभारत सबसे लम्बा काव्य है।

आज के लिए इतना ही, अगले एपिसोड में हम महाकाव्य शुरू होने के इतिहास के विषय में बात करेंगे|

अगर आप लोगों को कोई सुझाव देना हो तो कमेन्ट में लिखिए या ईमेल कीजिये।